Tuesday, 14 April 2015

एक सिक्का, दो पहलू (लघु-कथा)

अप्रैल माह रविवार की एक भीगी भीगी सी सुबह थी. खिड़की से बाहर झांकती सुमन बोली ‘रमेश, बाहर देखो कितना सुहावना मौसम है. रात भर ओले और तेज बारिस के बाद बाहर कितना अच्छा मौसम हो गया है. बहुत दिन हो गए गर्मी में घर में बैठे बैठे. चलिए कहीं पिकनिक पर चलते हैं बच्चों के साथ.’

‘ठीक है सुमन. तुम बच्चों को भी तैयार कर लो. पहले लम्बी ड्राइव पर चलेंगे और किसी रिसोर्ट में लंच करेंगे.’ बिस्तर से उठते हुए रमेश बोला.

‘जी, आज सारा दिन बाहर ही गुजारेंगे और रात को पिक्चर देख कर और बाहर ही खाना खा कर आयेंगे.’ सुमन ने रमेश के गले लगते हुए कहा और गुनगुनाते हुए कमरे से बाहर निकल गयी.
                 *****
रात भर तेज बारिस और कड़कती बिजली का शोर श्यामू के मन को दहलाता रहा. खपरैल की छत पर ओलों के गिरने की तीव्र आवाज़ सर पर पत्थर की चोट जैसी लग रह थी. रात भर वह अप्रैल के महीने में बे-मौसम बरसात और खेतों में खड़ी फसल के बारे में सोच कर सो नहीं पाया. कई बार खेतों में जाने की सोचा, लेकिन बारिस की तीव्रता को देख कर वह मन मसोस कर रह गया. सुबह उठते ही बाहर आकर देखा तो बादल साफ़ थे और वह पत्नी की नास्ते के लिए आवाज़ अनसुनी करके खेतों की ओर भागा. ओले और तेज बारिस से नीचे जमीन पर पड़े गेहूँ की बालियों को देख कर उसकी आँखें फटी की फटी रह गयीं. अपने खेत में गेहूँ की कल तक लहलहाती बालियों को आज जमीन पर गिरी देख उसकी आँखों के सामने साहूकार, भूखे बच्चों और शादी के योग्य बेटी कमला की सूरत तैरने लगी. बेमौसम बरसात से अपने सपनों को जमीन पर कुचला पड़ा देख उसकी आँखों के सामने अँधेरा छा गया और वह अपने सीने को पकड़ कर जमीन में लेटी हुई गेहूँ की बालियों पर बेजान हो गिर पड़ा. उसकी खुली आँखें एकटक खोज रहीं थीं आसमान के गर्भ में छुपे बेमौसम काले बादलों को.   

...कैलाश शर्मा                     

27 comments:

  1. सिक्के के दो पहलू । सुंदर ।

    ReplyDelete
  2. जी सच है एक की पिकनिक और एक का मातम ....

    ReplyDelete
  3. किसान देश की शान.....
    फिर भी किसान हैं बेचारा व बेसहारा...:-(
    हकीकत को बयाँ करती बेहतरीन रचना सर!!!!

    ReplyDelete
  4. मौसम का असर दो भिन्न वर्ग के लोगों पर किस प्रकार भिन्न असर डालता है ! एक के लिये आनंद का कारण और दूसरे के लिये मातम की वजह बन जाता है बहुत ही प्रभावशाली तरीके से अभिव्यक्त किया है इस लघु कथा में ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ..कहीं गम कही ख़ुशी
    सादर नमस्ते भैया

    ReplyDelete
  6. एक ही मौसम का दो अलग-अलग लोगों पर उनकी परिस्थिति के अनुरूप क्या असर होता है, सिक्के के दोनों पहेलु का सुन्दर चित्रण ...

    ReplyDelete
  7. किसान की दर्द्नाक ज़िन्दगी का सच्1 उम्दा लघु कथा1

    ReplyDelete
  8. मौसम के मार झेलते किसान के हालात को सुंदर ढंग से आप ने व्यक्त किया है, साथ प्रथम भाग में सुंदर कटाक्ष हुआ है ।

    ReplyDelete
  9. सुमन और श्यामू दो छोर हैं नागर और किसानी पर आधारित भारत के। आधा भारत मौसम के भरोसे ज़िंदा है सूखा और अति की बरसात यही नियति बन चली है इस एक और भारत की। कसावदार कथा लघु रूप में हिमालयी कथ्य छिपाए।

    ReplyDelete
  10. सुमन और श्यामू दो छोर हैं नागर और किसानी पर आधारित भारत के। आधा भारत मौसम के भरोसे ज़िंदा है सूखा और अति की बरसात यही नियति बन चली है इस एक और भारत की। कसावदार कथा लघु रूप में हिमालयी कथ्य छिपाए।

    ReplyDelete
  11. अद्भुत - कथा । 'झलकी ' की तरह ऑखों के सामने दिख रही है । संवेदना की पराकाष्ठा ।

    ReplyDelete
  12. आदरणीय शर्मा सर ,
    सिक्के के दोनों पहलुओं का वर्णन बहुत ही भावपूर्ण और बांध के रखने वाली शैली में हुआ है सर।
    बहुत ही बढ़िया लघु कथा।धन्यवाद।
    हम जैसों को भी आपके पथ प्रदर्शन की अति आवश्यकता है। सम्भव हो तो मार्गदर्शन अवश्य कीजियेगा।

    ReplyDelete
  13. सादर नमन आदरणीय ,
    मेरे प्रथम आग्रह पर तुरंत अपना अमूल्य समय और प्रतिक्रिया प्रदान करने हेतु
    ह्रदय से आपका आभार।

    ReplyDelete
  14. सटीक चित्रण ... एक सा हर किसी को नहीं मिल पाता कभी ...
    शीर्षक को सार्थक करती कहानी ...

    ReplyDelete
  15. किसानों की जिंदगी सच में जहन्नुम से कम नही है , कम से कम भारत में तो ऐसा ही है ! सब कुछ भगवान भरोसे ! एक सिक्के के दो पहलु ! बहुत ही सटीक चित्र खींचा है आपने दोनों का आदरणीय कैलाश शर्मा जी !

    ReplyDelete
  16. किसान कि जिंदगी ..आज का मौसम....बातें यक़ीनन दिल की हैं ..गहरी हैं
    आभार

    ReplyDelete
  17. Very nice and lovely blog.If you are interested in following each others blog,please follow me and get followed back.Please write in comments also that you have followed my blog.Thanks .Love you.
    http://findshopping.blogspot.in/2015/04/top-online-shopping-sites-list.html

    ReplyDelete
  18. सच कहा किसान का जीवन बहुत ही दुश्‍कर है।

    ReplyDelete
  19. This is life on earth.Somewhere hills and somewhere valleys.Very touching story the second one.

    ReplyDelete
  20. समय के साथ संवाद करती आपकी प्रस्तुति काफी रोचक लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है।सुप्रभात मित्र।

    ReplyDelete
  21. Ek hee tasweer ke do pahaloo.

    ReplyDelete
  22. एक सिक्के के दो पहलू,वास्तविक घटना सी लग रही हैं ये कहानी
    कृपया यहाँ भी पधारिये
    http://ghoomofiro.blogspot.in/

    ReplyDelete
  23. अच्छी कहानी

    ReplyDelete
  24. Isi bhedbhav ko log kismat ka nam dete hain or jiski kismat jaisi rahe ,soch or halat bhi waise hi hote hain....achhi laghukatha.

    ReplyDelete
  25. 18 साल की उम्र तक बलात्कार करते रहिये ...

    जी हां---अगर आपकी उम्र 18 साल से कम है तो आप बेफ़िक्र होकर बलात्कार कीजिये या फिर कोई भी जुर्म कीजिये हिन्दुस्तान का कानून आपका कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता .
    अगर आपकी भी मानसिकता इस तरह की है तो फिर नोच डालिए किसी निर्भया की इज्ज़त को
    जितनी हेवानियत है आजमां लीजिये ...देर किस बात की है India gate फिर से आपके जुर्म का इंतज़ार कर रहा है ..जनता को भी तो मोमबत्ती लेकर सड़कों पर उतरने का मोका मिलना चाहिए
    अगर गलती से कभी पकडे भी गए तो चिंता ना करे इसकी भी सुविधा हमारा कानून देता है
    आपका कोई कुछ नहीं उखाड़ सकेगा आपके लिये केस लड़ने वाले NGO और बड़े बड़े वकील लाइन में खड़े होंगे आपको बस 2-3 साल तक “ बाल सुधारगृह “ में मोज मस्ती करवाई जाएगी जेल नहीं होगी
    बस दुःख इतना है की आपको दुनिया की नजरो से दूर रखा जायेगा ताकि जब आप 2-3 साल मस्ती मरने करने बाद जब बाहर आओगे तो आपको कोई पहचान ना सके .की यही वो बलात्कारी है
    जब आप बाहर आओगे तो बड़े बड़े नेता और समाजसेवी आपके पुनर्वास की तैयारी में लगे होंगे
    पुनर्वास के नाम पर आपको हजारों रूपये मिलेंगे ..आपके के लिए नोकरी भी तलाशी जाएगी ..

    लेकिन हाँ ---बस आपकी उम्र 17 साल 364 दिन से कम होनी चाहिए

    ReplyDelete